पल - पल बदलता वक़्त



लम्हा - लम्हा जिंदगी कुछ यूँ सिमट गई ,
जो मज़ा था इंतजार में अब सज़ा बन गई |

दर्द और ख़ुशी के बीच दूरियां जो बड गई ,
दिलो के दरमियाँ मोहोब्बत कम हो गई |

चिठ्ठी - तार बीते जमाने की बात हो गई ,
आधुनिक दौड़ में वो बंद किताब हो गई |

कुछ सवाल हदों की सीमाएं पार कर गई ,
वक़्त के साथ अपने कई निशां छोड़ गई |

खफा नहीं , जिंदगी हमपे मेहरबान हो गई ,
भडास निकली तो बात आई - गई हो गई |

13 टिप्‍पणियां:

expression ने कहा…

बढ़िया है.....

अनु

sushma 'आहुति' ने कहा…

भावो को खुबसूरत शब्द दिए है अपने.....

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

खफा नहीं , जिंदगी हमपे मेहरबान हो गई ,
भडास निकली तो बात आई - गई हो गई |

मकता बिल्कुल पते की बात कह गया, बहुत लाजवाब.

रामराम.

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

ठीक ही है, उसी समय निपटाते बढ़ते रहिये।

Veena Srivastava ने कहा…

खफा नहीं , जिंदगी हमपे मेहरबान हो गई ,
भडास निकली तो बात आई - गई हो गई |

बढ़िया...

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति ....!!
आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार (24-07-2013) को में” “चर्चा मंच-अंकः1316” (गौशाला में लीद) पर भी होगी!
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

महेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा…

ओह, क्या बात है,
बहुत सुंदर, बहुत सुंदर



मुझे लगता है कि राजनीति से जुड़ी दो बातें आपको जाननी जरूरी है।
"आधा सच " ब्लाग पर BJP के लिए खतरा बन रहे आडवाणी !
http://aadhasachonline.blogspot.in/2013/07/bjp.html?showComment=1374596042756#c7527682429187200337
और हमारे दूसरे ब्लाग रोजनामचा पर बुरे फस गए बेचारे राहुल !
http://dailyreportsonline.blogspot.in/2013/07/blog-post.html

सुरेन्द्र "मुल्हिद" ने कहा…

amazing

Anju (Anu) Chaudhary ने कहा…

बहुत खूब

कालीपद प्रसाद ने कहा…


बहुत उम्दा ग़ज़ल !
latest postअनुभूति : वर्षा ऋतु
latest दिल के टुकड़े

Ramakant Singh ने कहा…

दर्द और ख़ुशी के बीच दूरियां जो बड गई ,
दिलो के दरमियाँ मोहोब्बत कम हो गई |

निःशब्द करती बेहतरीन **********

दिगम्बर नासवा ने कहा…

लगता है मेरी टिप्पणियाँ स्पैम में जा रही हैं ...

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

वाह...बहुत बढ़िया...!