एक पगली


हंसी ऐसी चाहिए ,
ये जहान उसकी गूंज सुने |
दर्द इतना हो की 
इंसानी रूह भी धरधरा उठे |
प्यार इतना चाहिए की 
कायनात उसमे समा जाये |
आंसू इस कदर बहे की 
सागर का दायरा भी कम पड़े |
आज़ादी ऐसी हो की 
हर बात अपनी बयाँ कर पाऊं |
कैद ऐसी हो की 
घुट - घुटकर वही मर जाऊं |
कतरा - कतरा जीना 
हमें रास नहीं आता |
टुकड़ों - टुकड़ों में 
बंटना हमें नहीं भाता  |
हर पल का जीना मरना 
बड़ा तकलीफ देता है |
इसलिए पागल कहते हैं सभी 
दर्द मेरा कोई न जानता  |
कौन हूँ मैं ?
बखूबी जानती हूँ मैं  |
परवाह नहीं उनकी नज़र  
क्या कहती है मुझे |
अपने अहसास को बेफिक्री से 
अंजाम देती हूँ |
लोग हैरान हैं ...
ऐसे कैसे मैं सब कर लेती हूँ |
सबसे अलग हूँ मैं ...
हाँ इसलिए लोग मुझे 
पागल कहते हैं |
अपने आप से आज़ाद हूँ 
इसलिए मैं खामोश रहती हूँ |
पागल नाम है मेरा 
हाँ अब इसी नाम से मशहूर हूँ मैं |




12 टिप्‍पणियां:

poonam ने कहा…

बहुत सुंदर

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

बहुत उम्दा, बेहतरीन अभिव्यक्ति,,,

RECENT POST: दीदार होता है,

महेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा…

बहुत सुंदर रचना
क्या बात

Rajendra Kumar ने कहा…

बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति,आभार.

Rajesh Kumari ने कहा…

आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगल वार ७/५ १३ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका वहां स्वागत है ।

Ramakant Singh ने कहा…

तथागत http://rajeshakaltara.blogspot.in/2013/05/blog-post.html पर आपका स्नेह बरसे मेरी अपेक्षा

गजब की चाहत

काव्य सुधा ने कहा…

बहुत सुन्दर मर्मस्पर्शी रचना..

कालीपद प्रसाद ने कहा…

बहुत सुन्दर ,दुनिया में सबसे बड़ा पागल या तो सबसे बड़ा वुद्धिमान व्यक्ति है या सबसे बड़ा वैज्ञानिक है या दार्शनिक है ,अपना अपना चयन.

अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
latest post'वनफूल'

दिगम्बर नासवा ने कहा…

मन को छूती है रचना ...

वाणी गीत ने कहा…

अहसासों के रंगमच पर बिना एहसास पगली भी कितने अहसासों में हैं . इसलिए पगली हूँ मैं , क्या नहीं बताता :)

मन के - मनके ने कहा…


कतरा-कतरा जीना
हमें रास नहीं आता
टुकडों-टुकडों मेम बंटना
हमें नहीं भाता--
बहुत खूब.

Minakshi Pant ने कहा…

मैं सभी मित्रों का तहे दिल से स्वागत करती हूँ अपना कीमती समय देने के लिए बहुत २ शुक्रिया |