हँसना ही जिंदगी


किसी ने पुच्छा ...................... " तुम्हारे पापा के अंतिम शब्द क्या थे ?
वह बोला ................... " जब उनकी अंतिम घडी थी .........
                                                         तब माँ पास ही खड़ी  थी .............................
            समझे ?
इसलिए इसी का नाम  जिंदगी है दोस्तों
इसलिए इसे हंस कर बिता दो !

3 टिप्‍पणियां:

Jyoti ने कहा…

ha ha ha ha

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

hasne ki koshish kar raha hoon:)

Minakshi Pant ने कहा…

thanx chalo humare ghar aake hanse to sahi dhanyvad dost