अपना - अपना नजरिया

सबकी मंजिल एक ...
नजरिया जुदा - जुदा 
कोई हंस के तो कोई रोके 
जीवन है जीता 
कोई देके तो कोई लेके 
जीवन फिर भी है चलता 
कोई प्यार से ,
कोई मार से अपना 
सिक्का है जमाता 
समय अपने नज़रिए से 
निरंतर है आगे बढती  
न कभी रुकी है न रुकेगी 
जीवन हर मोड़ पर 
एक अनसुलझी पहेली 
जिसे सुलझाते हुए 
आगे बड़ते जाना है |
न ये तेरी , न ही मेरी 
विरासत में कुछ पल के लिए 
हमको - तुमको है  मिली 
आओ कुछ एसा कर दे कि
इसका एहसान उतर जाए
कौन  आएगा पलटकर 
फिर अपने आस्तिव की 
तलाश में ...
आज का गुजरा पल 
कल ... हमको देने वाला नहीं
सोने - चाँदी की ठेरी
हम कब तक साथ 
रखतें हैं ...
आपस के एहसास ही तो 
हमारे  हरपल साथ रहतें  हैं |
फिर निर्णय लेने में 
इतनी देरी क्यु कर हो 
बदल लो आजसे ही जीवन 
की सफल जीवन हमारा हो |


13 टिप्‍पणियां:

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

ज़िंदगी जीने का नजरिया ..अच्छा लगा ..

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

बेहतरीन!

संजय कुमार चौरसिया ने कहा…

aadarniya meenakshi ji,

har baar ki tarah behtreen

आपस के एहसास ही तो
हमारे हरपल साथ रहतें हैं |

bahut badiya aur 100% sach

prerna argal ने कहा…

bahut achcha najariyaa jindgi ke prati.bilkul sahi likha aapne.badhaai.

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

तभी जीवन में इतने रंग हैं।

Dr Varsha Singh ने कहा…

सबकी मंजिल एक ...
नजरिया जुदा - जुदा
कोई हंस के तो कोई रोके
जीवन है जीता


बहुत सुन्दर व्याख्या जीवन की....

वन्दना ने कहा…

सच सबका अपना अपना नज़रिया ही होता है ।

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

jeevan ko safal banane ke liye gur de rahe ho kya??:)
payari see rachna...
aajkal to aapne hamare blog pe bhi aana chhod diya:)

Roshi ने कहा…

jeene ki seekh deti rachna,,,,,,,,,,,,,,,,

मनोज कुमार ने कहा…

बहुत सुंदर कविता।

sushma 'आहुति' ने कहा…

najariya accha laga... hamko bhi ek najriya jindgi jeene ka... sunder prstuti....

सुधीर ने कहा…

सुंदर रचना

Roshi ने कहा…

jeevan ka sandesh deti rachna