अंदाजे जिंदगी

Birds Wallpaper of two birds sitting on a tree
तपती रेत में चलो बारिश में नहा कर देखो |
जिंदगी क्या है जरा बाहर तो  आकर देखो |

बंद किताबों के पन्नों को पलटकर क्या होगा |
हकीकत जिंदगी की , शब्दों में उतरकर देखो |

देखकर के चमन को दूर ही से परखना कैसा |
खुशबुएं हसीन नजाकत को छू - छूकर  देखो | 

महफ़िलों में क्यु छलक जाते है गम के आंसूं |
इसका सबब तो दीवानों की दीवानगी से पूछो |

रात भर जली शमां सुबह क्यु दम तोड़ दिया |
ये अंजामें सफर रात भर जलते परवानो से पूछो |

कीचड़ में रहकर खुदको महफूज रखना हो  कैसे  |
ये राजे हकीकत कीचड़ में खिले  कमल  से पूछो |

गम तो है जिंदगी में फिर भी ये इतनी हसीं क्यु है |
अंदाजे जिंदगी से ही  इस बात  का तुम पता पूछो |


15 टिप्‍पणियां:

सदा ने कहा…

तपती रेत में चलो बारिश में नहा कर देखो |
जिंदगी क्या है खुले आसमां में आकार देखो |

बंद किताबों के पन्नों को पलटना कैसा |
हकीकत क्या है शब्दों में उतरकर देखो |
वाह ...बहुत खूब ।

निर्मला कपिला ने कहा…

तपती रेत में चलो बारिश में नहा कर देखो |
जिंदगी क्या है खुले आसमां में आकार देखो |
वाह बहुत खूब । पूरी कविता अच्छी लगी। बधाई।

संतोष कुमार ने कहा…

तपती रेत में चलो बारिश में नहा कर देखो |
जिंदगी क्या है खुले आसमां में आकार देखो |

waah pehli do line ne nishabd kar diya kuch bhi kehne ko nahi hai .

Badhai aur shubhkamnayen..

महेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा…

क्या कहने,
बहुत सुंदर

sushma 'आहुति' ने कहा…

एक खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.....

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

वाह, बहुत दमदार।

देवेन्द्र ने कहा…

रात भर जली शमां सुबह क्यु दम तोड़ दिया |
ये अंजामें सफर रात भर जलते परवानो से पूछो |

वाह, बहुत खूब।

***Punam*** ने कहा…

कीचड़ में रहकर खुदको महफूज रखना हो कैसे |
ये राजे हकीकत कीचड़ में खिले कमल से पूछो |

सही कहा आपने.....
सुन्दर प्रस्तुति...!!

सुरेन्द्र "मुल्हिद" ने कहा…

sundar andaaz

PK SHARMA ने कहा…

बहुत अच्छी रचना है आपकी , हमारे ब्लॉग पर भी दर्शन दे श्रीमान
हमारी कुटिया पर तो कोई आता ही नहीं है, आईये ना ............

सागर ने कहा…

andaaze jindgi bhuat khubsurat laga.... behtreen rachna...

prerna argal ने कहा…

आप की पोस्ट ब्लोगर्स मीट वीकली (२०) के मंच पर प्रस्तुत की गई है /कृपया वहां आइये और अपने विचारों से हमें अवगत करिए /आप हिंदी भाषा की सेवा इसी लगन और मेहनत से करते रहें यही कामना है / आभार /link


http://hbfint.blogspot.com/2011/12/20-khwaja-gareeb-nawaz.html

Naveen Mani Tripathi ने कहा…

vah bahut khoob ..... apki lekhni yun hi salamat rhe ... ...............बंद किताबों के पन्नों को पलटना कैसा |
हकीकत क्या है शब्दों में उतरकर देखो |

अनामिका की सदायें ...... ने कहा…

गम तो है जिंदगी में फिर भी ये इतनी हसीं क्यु है |
अंदाजे जिंदगी से ही इस बात का तुम पता पूछो |

jabardast soch. umda gazal.

Reena Maurya ने कहा…

एकदम बेहतरीन रचना ..
एक - एक पंक्ति दिल में उतर गयी ..
तारीफ में शब्द नहीं...