वो गहरी रात का साया

वो रात एक बार फिर से महक उठी होगी |
उसने जब चाँद के कानों में कुछ कहा होगा |

तपती धुप भी कुछ देर को ठहर  गई होगी |
एक नज़र उसने इबादत की जो डाली होगी |

मैं जानती हूँ की हर राह पर तू मिलता है |
तेरी महक ही तो तेरे होने का सबब देती है  |

ये गहरी रात इस बात का बनती  है गवाह |
उस रात चाँद तेरी पलकों में छुप गया होगा |

मुझे गिला नहीं की , मेरे तस्सवुर में तू क्यु है |
गिला  है की तेरे तस्सवुर में फिर मैं क्यु नहीं |

हरेक रात के अन्धेरें  में आँखें खोजती है उसे |
तभी वो आकर आज मेरे ख्वाब सज़ा गया होगा |

मेरी तो हर रूह उसकी ही बख्शी हुई नेमत है |
तभी वो मुझको छु कर आगे चल दिया होगा |    

26 टिप्‍पणियां:

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

मुझे गिला नहीं की , मेरे तस्सवुर में तू क्यु है |
गिला है की तेरे तस्सवुर में फिर मैं क्यु नहीं |

हरेक रात के अन्धेरें में आँखें खोजती है उसे |
तभी वो आकर आज मेरे ख्वाब सज़ा गया होगा |

कोमल और खूबसूरत भावनाओं से सजी सुन्दर रचना

prerna argal ने कहा…

मेरी तो हर रूह उसकी ही बख्शी हुई नेमत है |
तभी वो मुझको छु कर आगे चल दिया होगा |bahut laajabaab najm.badhaai aapko.




please visit my blog.thanks

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

आपकी पोस्ट की चर्चा यहाँ भी है .....


चिट्ठे आपके , चर्चा हमारी

विजय रंजन ने कहा…

kya panktian likhi hain Meenakshiji aapne...hatprabh rah gaya...ek ek shab purnatwa ko prapt karte huye...

मैं जानती हूँ की हर राह पर तू मिलता है | तेरी महक ही तो तेरे होने का सबब देती है |

Behtareen'

Jyoti Mishra ने कहा…

vibrant and vivid expressions !!

babanpandey ने कहा…

man prasaan ho gaya pant ji //

संजय कुमार चौरसिया ने कहा…

मैं जानती हूँ की हर राह पर तू मिलता है |
तेरी महक ही तो तेरे होने का सबब देती है


bahut sundar

संजय भास्कर ने कहा…

कोमल भावों से सजी ..
..........दिल को छू लेने वाली प्रस्तुती

Rajiv ने कहा…

"मेरी तो हर रूह उसकी ही बख्शी हुई नेमत है |
तभी वो मुझको छु कर आगे चल दिया होगा"
मीनाक्षी जी,अत्यंत कोमल अहसासों से बनी .इतना समर्पण! मन्त्र-मुग्ध करती रचना जो दिल में ताजगी भर गई.

PK Sharma ने कहा…

bahut accha minakshi G ase hi likhti rahe

वन्दना ने कहा…

कोमल भावो की सुन्दर प्रस्तुति।

ZEAL ने कहा…

हरेक रात के अन्धेरें में आँखें खोजती है उसे |
तभी वो आकर आज मेरे ख्वाब सज़ा गया होगा ...

wow Great creation Minakshi ji

.

घनश्याम मौर्य ने कहा…

रूमानी अभिव्‍यक्ति।

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना....

Manpreet Kaur ने कहा…

बहुत ही उम्दा शब्द है! मेरे ब्लॉग पर जरुर आए ! आपका दिन शुब हो !
Download Free Music + Lyrics - BollyWood Blaast
Shayari Dil Se

sushma 'आहुति' ने कहा…

bhut khubsurat aur pyari rachna...

anju choudhary..(anu) ने कहा…

मैं जानती हूँ की हर राह पर तू मिलता है |
तेरी महक ही तो तेरे होने का सबब देती है |


प्यार का सुखद एहसास ....बहुत खूब

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बेहतरीन रचना, रात के साये न जाने क्या कुछ छिपाये रहते हैं।

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

मुझे गिला नहीं की , मेरे तस्सवुर में तू क्यु है |
गिला है की तेरे तस्सवुर में फिर मैं क्यु नहीं |

Khoob kaha......Behtreen rachna...

Kunwar Kusumesh ने कहा…

प्रभावी सुन्दर रचना.वाह.

वाणी गीत ने कहा…

तुम तुम हो तो क्या तुम हो
जब हम नहीं तो क्या तुम हो ...

सुन्दर रचना !

डॉ. दलसिंगार यादव ने कहा…

"रात के साये न जाने क्या कुछ छिपाये रहते हैं।"
कौन करे रात का इंतज़ार,
यहाँ दिन में क्या नहीं होता?

Richa P Madhwani ने कहा…

http://shayaridays.blogspot.com

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

meenakshi.sach me aap apne har post se lajabab kar dete ho...! har baar ek naye tarah ki rachna...pichhle se ek dum hat kar...

मेरी तो हर रूह उसकी ही बख्शी हुई नेमत है |
तभी वो मुझको छु कर आगे चल दिया होगा |

ab inn sabdo pe main kya comment dun...main iske kaabil hi nahi........

Hadi Javed ने कहा…

मेरी तो हर रूह उसकी ही बख्शी हुई नेमत है |
तभी वो मुझको छु कर आगे चल दिया होगा |
वाह लाजवाब खुबसूरत अशार

Vivek Jain ने कहा…

मेरी तो हर रूह उसकी ही बख्शी हुई नेमत है |
तभी वो मुझको छु कर आगे चल दिया होगा

वाह,बहुत सुन्दर
विवेक जैन vivj2000.blogspot.com