बंसी की धुन

बंसी की धुन तुम यूँ न बजाया करो |
हमें पल -पल तुम यूँ न सताया करो |
देखो पनघट पे आते  है ग्वाले बड़े ,
तुम ऐसे  हमें न बुलाया करो |
बृज  की ग्वालन मुझे जो देख लेंगी यहाँ |
मुझसे रूठ कर वो दूर चली जाएँगी न ?
तुम तो अपनी अदाओं से मना लोगे उन्हें ,
मैं तो हरपल मनाती रह जाउंगी  न ?
तुम हो नटखट से सबका बस दिल चुराते हो |
कौन क्या कहेगा इसकी खबर कहाँ लेते हो |
अपनी धुन में हर दम मग्न रहते हो |
कोई कुछ भी कहे तुम कहाँ सुनते हो |
सारी दुनिया को बस अपना ही कहते हो |
मैं बाट जोहते - जोहते थक जाती हूँ |
तुम न जाने किस गली में बंसी बजाते  हो |
खुद से पहले नाम तो तुमने मुझको दिया |
क्या तुम भी  मुझे उतना ही चाहते हो ?
चलो जाने दो अब ये शिकवे - गिले |
छेडो  बंसी की एसी धुन की हम ये मान लें |
मैं हूँ तेरी तू है मेरा फिर से दुनिया जान ले |
मैं हूँ तेरी तू है मेरा फिर से दुनियां जान ले | 

19 टिप्‍पणियां:

Rakesh ने कहा…

क्या तुम भी मुझे उतना ही चाहते हो ?
चलो जाने दो अब ये शिकवे - गिले | bahut sunder!!!!!

anu ने कहा…

मैं बाट जोहते - जोहते थक जाती हूँ | तुम न जाने किस गली में बंसी बजाते हो |

saaware ki bansi ki dhun mei rahda ka kho jana ......prem purn abhivyakti
bahut sunder

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " ने कहा…

प्रेमरस में सराबोर सुन्दर रचना

वन्दना ने कहा…

यही तो उसके प्रेम के रंग हैं।

Jyoti Mishra ने कहा…

lovely and melodious !!

Roshi ने कहा…

prem ras se sarobar ..........

Dr Varsha Singh ने कहा…

बेहतरीन भावपूर्ण रचना के लिए बधाई।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

यही उलाहना बनती है।

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

आपका स्वागत है "नयी पुरानी हलचल" पर...यहाँ आपके पोस्ट की है हलचल...जानिये आपका कौन सा पुराना या नया पोस्ट है यहाँ पर कल ...........
नयी-पुरानी हलचल

sushma 'आहुति' ने कहा…

bhut khubsirat prempur rachna...

Swarajya karun ने कहा…

अच्छी लगी यह रचना . बहुत-बहुत आभार .कृपया मेरे ब्लॉग पर ज़रूर आएं और देखें -आपके स्वागत में हैं 'किस दुनिया के जन्तु ?'

शिखा कौशिक ने कहा…

Meenakshi ji ki bahut sundar rachna prastut ki hai aapne .badhai .

aap ke blog ka parichay maine apni blog post me ''ye blog achchha laga ''par diya hai .mere blog ka URL hai-
''http://yeblogachchhalaga.blogspot.com''

शालिनी कौशिक ने कहा…

छेडो बंसी की एसी धुन की हम ये मान लें |
मैं हूँ तेरी तू है मेरा फिर से दुनिया जान ले |
bahut sundar prastuti meenakshi ji.ye blog achchha laga se yahan aana hua aur bansi kee dhun ne ye manne ko majboor kiya jo aap hame manvana chahti thi.vah vah..

anupama's sukrity ! ने कहा…

भावनाओं की भीड़ में सत्य खोजती ..सुंदर अभिव्यक्ति ...!!
बधाई मिनाक्षी जी ..!!

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

छेडो बंसी की एसी धुन की हम ये मान लें |
मैं हूँ तेरी तू है मेरा फिर से दुनिया जान ले |

बहुत सुन्दर शिकायतें और प्रेम से भरी रचना !

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत प्यारी धुन बंसी की ..

Udan Tashtari ने कहा…

सुन्दर प्रवाह-उम्दा गीत..शुभकामनाएँ.

Maheshwari kaneri ने कहा…

प्रेम रस से ओत प्रोत भावमयी रचना

Kuldeep Thakur ने कहा…

मुझे आप को सुचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि
आप की ये रचना 17-05-2013 यानी आने वाले शुकरवार की नई पुरानी हलचल
पर लिंक की जा रही है। सूचनार्थ।
आप भी इस हलचल में शामिल होकर इस की शोभा बढ़ाना।

मिलते हैं फिर शुकरवार को आप की इस रचना के साथ।