बेजुबान ओरत

 

इस बार की बारिश इस बेजुबान ओरत की तरह ही लगी !
जो सारी जिन्दगी भर का दुख समेटे एक ही बार मै बरस गई!
उसकी  बूंदों ने तो जेसे  सबके  मन को  मोह लिया !
उन्ही बूंदों ने मिलकर धरती मै एक विकराल रूप लिया !
सारे जन- जन मै  उसने अपने रूप का बखान किया !
अपनी मोहनी अदाओ से सबको अपने बस मै किया !
 मत करो झेड़ खानी इससे की दर्द इतना भी न बढ जाये !
उसकी  सारी संवेदना भयंकर रूप ना धर आये !
करो तुम हर दम स्वागत उसके प्यारे एहसासों का   !
भर दो उसकी झोली हर दम प्यार भरे उपहारों का  !
कर दो उसकी हर ख्वाइश को मालामाल तुम !
ले लो उससे हर दम बिन मांगे प्यार का भंडार तुम !

4 टिप्‍पणियां:

Krishna Baraskar ने कहा…

bahut hi achhe jee bahut hi achhe.. aapki quality ke sab diwane hai..
jaise ki jyadatar log aapko sagest karte hai thoda vartni me dhyan dengi..

tiping isme bhi try kar sakti hai :-

http://utilities.webdunia.com/hindi/onlinetypingtools.html

संजय भास्कर ने कहा…

सुंदर प्रस्तुति....

नवरात्रि की आप को बहुत बहुत शुभकामनाएँ ।जय माता दी ।

bhawna ने कहा…

Its a real picture of a lady.....well said....good work done...I am proud to be your sister...........

Kailash bhatt ने कहा…

Bahut sunder poem hai,sahi mayne mein naari ke dil ki baat kahi hai. Thanks

kailash bhatt