बच्चों को दे प्यार और विश्वास

               महिला एवं शिशु विकास मंत्रालय ने युनिसफ़ और कुच्छ एनजीओ के साथ मिलकर हाल ही मै चाइल्ड येब्युस के मामले मै भारत के 16 राज्यों का सर्वे किया है ! इस सर्वे मै शामिल 53 % बच्चों  ने माना की वे कभी ना कभी शारीरिक शोषण करने वालो में से 50 % जान पहचान वाले लोग ही थे ! बच्चियों   की तुलना में बच्चे शारीरिक शोषण का ज्यादा शिकार हो रहे हैं !
                                         ये हमारे देश मै नहीं दुनिया भर मै घटने वाली जटिल समस्या है जिसको हम किसी भी तरह नज़र अंदाज़ नहीं कर सकते जिसकी खबर हम हर रोज़ अख़बार , टेलीविज़न के माध्यम से देखते और सुनते हैं ! कितना प्यार करते हैं हम अपने बच्चों  से ? हमारा जवाब होता है ''''''''बहुत ज्यादा ;;;;; कितना ख्याल रखते हैं हम अपने बच्चों  का ? हमारा फिर वही जवाब '''''बहुत ज्यादा ! फिर ये सब  केसे हो जाता है ? कहीं  न कहीं  तो हम उनकी देख रेख मै चुक कर ही रहे हैं जिसका भुगतान हमारे मासूम बच्चों  को उठाना पड़ता है ! कोंन सी है हमारी वो भूल ? हमें  अपने बच्चों  के साथ एक दोस्त की तरह रहना चाहिए अपने रोज़ -मर्रा की जिंदगी मैं  से कुछ  पल उनके साथ व्यतीत करना चाहिए उनके खट्टे - मीठे पलों  को उनके साथ बाँटना चाहिए ! उनका विश्वास जीतना चाहिए कयुंकी हर इन्सान अपने साथ घटित घटना को किसी न किसी के साथ बंटाना चाहता है और उसकी प्रतिक्रिया जानना चाहता है ! जब हम अपने बच्चों  के करीब जायेंगे उनके एहसासों को बाँटेंगे तभी हम उनके जीवन की गतिविधियों से अवगत रह पाएंगे और वो हमसे खुल कर अपने दिल की बात कह पाएंगे ! हमे एसा करके उन्हें अच्छे बुरे का ज्ञान देकर उनकी हिम्मत को बढाना है जिससे वो अपने खिलाफ होने वाले शोषण के विरुद्ध आवाज़ उठा सके और दोषी को अपनी हिम्मत से पस्त कर सके ! हमें अपने बच्चों  की नीव इतनी मजबूत करनी होगी की वो थोड़े से ही हिलाने से गिरे नहीं बल्कि उसे ही गिरा दे जो उनकी नीव को हिलाना चाहता है और ये काम कोई और नहीं हम माँ-बाप ही अच्छी तरह कर सकते हैं क्यूंकि  वो किसी ओर  की नहीं हमारी और आपकी जिम्मेदारी  है जब हम ही उन्हें संरक्षण नहीं दे पाएंगे तो हम दोषी को सजा केसे दिला पाएंगे !
  बच्चो मै शोषण के मामले अधिकांशतः घर की चार दिवारी से कभी बाहर निकल ही नहीं पाते दोषियों के खिलाफ केस दर्ज करवाने की बात तो बहुत दूर की है ,पर जब तक हम उनके खिलाफ आवाज़ नहीं उठाएंगे येसे मामले खत्म होने का नाम ही नहीं ले सकते और येसे लोगों  की हिम्मत बढती चली जाएगी ! ये बात 100 % सच है की जितने भी इस तरह के शोषण होते हैं वो हमारे करीब के लोग ही होते हैं ! और इस मै हर वर्ग के लोग आते हैं ! कुछ  लोगो का कहना है की एसे  लोग मानसिक रूप से बीमार होते हैं पर मेरा ये सोचना है की अगर वो मानसिक रूप से बीमार होते हैं तो अपने और दुसरे के बच्चों  मै फर्क केसे कर लेते हैं उस वक़्त उनकी बीमारी ठीक  केसे हो जाती  है ये सिर्फ एक क्षण की भूख भर है जो आदमी को अँधा बना देती है और मासूम का जीवन तबाह   कर देती है ! एसे  व्यक्ति को बिल्कुल  माफ़ नहीं करना चाहिए ! हमें  अपने बच्चों  को अपने करीबी लोगों  से हमेशा सतर्क रहना सिखाना  चाहिए ! जिससे वो उनकी मसुमियता का फायदा कभी अंकल ,चाचा या भाई बन कर न उठा सके ! हमें  इन लोगों  से ज्यादा विश्वास अपने बच्चों  की बातों  पर करना होगा जिससे कोई बाहर का आदमी हमसे मीठी -२ बातें  करके हमारे बच्चों  के साथ दुराचार न कर सकें  ! उन्हें इज्ज़त  करना सिखाना है पर अगर उस की आड़ मै उनसे कोई गलत व्यव्हार करे तो उसका जवाब देना भी सिखाना  होगा ! ये सब  हमारे और आपके प्रयत्न से ही पूरा  हो सकता है ! बस हमारा काम है बच्चों  के अन्दर विश्वास और हिम्मत जगाने की जिससे उन्हें हमारी मदद  की जरुरत होने पर अपना मुह बंद न रखना पड़े उनका हम पर  विश्वास ही उन्हें हमसे संपर्क बनाने मै मदद करेगा !
                                               बच्चों  को प्यार देने का अर्थ ये नहीं की हम उन्हें समय से खाना दे देना या उनके नम्बरों का लेखा जोखा देख लिया इन सब के साथ -साथ हमें  उनमें  आने वाले बदलाव पर भी नज़र रखनी चाहिए की कहीं  हमारा बच्चा किसी तरह की परेशानी से तो नहीं जूझ रहा या चुप -चाप क्यूँ  रहने लगा है आदि हम ये सब काम उन्हें अपना थोडा सा समय दे  कर आसानी से कर सकते हैं और अपने बच्चों  को एक सुरक्षित जीवन प्रदान कर सकते हैं !
५० 

3 टिप्‍पणियां:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बच्चों का लालन पालन पूरे समय का कार्य है, हर समय ध्यान देते रहना होगा।

मनोज कुमार ने कहा…

बड़ी ही दुखद स्थिति है। समाज में जागरूकता लाने की ज़रूरत है।

santosh jha ने कहा…

वाह ...
बहुत सुन्दर कविता
मन को भावुक कर दिया

आभार / शुभ कामनाएं