जिंदगी




जिंदगी से शिकायत जो न कर पायेंगें ,
जिंदगी की इबादत न वो में मर जायेंगें |

साथ लेकर सफर में न कुछ आये थे ,
साथ लेकर सफर से न क्या जायेंगें |

पलपल जिनका जीना हुआ है मुहाल ,
वो खुद को जहां में फना कर जायेंगें |

जो डरते हैं आँखों में अश्क लाने से ,
मुस्कुराना भला कैसे सीख जायेंगें |

रात काली देख घर से निकलते नहीं ,
चाँद की चांदनी वो क्या चुरा जायेंगें |

खुलकर बयाँ न कर पाए दिल ए हकीकत ,
वो लफ़्ज़ों की कारीगरी क्या समझ जायेंगें |

9 टिप्‍पणियां:

Reena Maurya ने कहा…

बहुत ही बेहतरीन रचना...
बहुत सुन्दर...
:-)

babanpandey ने कहा…

बहुत सुंदर प्रस्तुति ..मेरे भी ब्लॉग पर आयें

अरुन शर्मा अनन्त ने कहा…

नमस्कार आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (27-10-2013) के चर्चामंच - 1411 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

कालीपद प्रसाद ने कहा…

बहुत बढ़िया रचना !
नई पोस्ट सपना और मैं (नायिका )

sushma 'आहुति' ने कहा…

प्रभावित करती रचना....

sanny chauhan ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति

Free recharge working 100% for all indian operator

Manjusha pandey ने कहा…

बेहद सुन्दर सार्थक रचना...

राजीव कुमार झा ने कहा…

बहुत सुंदर.
नई पोस्ट : कोई बात कहो तुम

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

यही सच है, सुन्दर रचना।