ख़ुशी


ख़ुशी जो छुए तो बढ़के गले लगा लो उसे तुम ! 
न जाने वो पल कभी  फिर आये न आये कल !
इस जन्म मै फिर उससे मुलाकात भी न हो !
मोहोब्बत   है उसी से  कहीं  ये बात भी न हो !
जानती  हूँ मैं... तेरा तो  कारोबार बहुत बड़ा है !
मुझसे दूर तू न जाना मै तेरी ही इक सहेली  हूँ !
जिंदगी के साथ रहती हूँ इसलिए इक पहेली हूँ !
ख़ुशी - ख़ुशी तेरे वादे पर चलती  जाऊँगी मैं  !
जो तूँ साथ दे तो हर गम को भुलाती जाऊँगी मैं !
तू जो साथ हो मेरे  तो होंसला सा बढ़ता  है ! 
बीते लम्हों को भूलने का सिलसिला सा चलता है !
तेरे जाते ही जाने कयुं हर तरफ अँधेरा सा पसरता है !
न जाने हरदम जीने का ये सिलसिला सा थमता है !
अब तू जान गई है न ...तू मेरे कितने करीब है !
या अब भी किसी पन्ने का हिसाब बाक़ी रखती है !

20 टिप्‍पणियां:

Learn By Watch ने कहा…

शानदार

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " ने कहा…

sundar rachna .

: केवल राम : ने कहा…

मुझसे दूर तू न जाना मै तेरी ही इक सहेली हूँ !
जिंदगी के साथ रहती हूँ इसलिए इक पहेली हूँ !

आदरणीय मीनाक्षी पन्त जी
बहुत गहरी बात कही है आपने हर एक पंक्ति बहुत गहरे भाव संप्रेषित करती है ...आपका आभार

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

kya baat hai!!

जानती हूँ मैं... तेरा तो कारोबार बहुत बड़ा है !
मुझसे दूर तू न जाना मै तेरी ही इक सहेली हूँ !

bahut pyare shabd..!

Er. सत्यम शिवम ने कहा…

आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (12.02.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.uchcharan.com/
चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

संतोष कुमार ने कहा…

आदरणीय मीनाक्षी पन्त जी
बहुत ही प्यारी रचना और बहुत ही गहरे भाव !

आभार !!

Love only Love ने कहा…

काफी अच्छा लिखा हैं आपने , दिल को छु लेने वाली बात लिखती हो आप,

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

दमदार।

babanpandey ने कहा…

bahut badhiyaa

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

बहुत खूब....प्रभावी प्रस्तुति

Dr. Ashok palmist blog ने कहा…

मीनाँक्षी जी आपकी रचना की प्रत्येक पँक्ति दिल को छू जाती है । अद्भूत और प्यारे भाव संजोय है आपने । आभार !

" देखे थे जो मैँने ख़्वाब..........गजल "

anupama's sukrity ! ने कहा…

ख़ुशी जो छुए तो बढ़के गले लगा लो उसे तुम !
न जाने वो पल कभी फिर आये न आये कल !

बहुत ही सुंदर और गहरी बात कहती हुई भावुक अभिव्यक्ती -
बधाई

nivedita ने कहा…

प्रिय मीनाक्षी जी ,
बहुत खूबसूरत भावाभिव्यक्ति .बधाई .

Dr Varsha Singh ने कहा…

जो तूँ साथ दे तो हर गम को भुलाती जाऊँगी मैं !
तू जो साथ हो मेरे तो होंसला सा बढ़ता है !
बीते लम्हों को भूलने का सिलसिला सा चलता है !
...

कविता बहुत सुन्दर और भावपूर्ण है। बधाई।

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

मुझसे दूर तू न जाना मै तेरी ही इक सहेली हूँ !
जिंदगी के साथ रहती हूँ इसलिए इक पहेली हूँ !

एक-एक शब्द भावपूर्ण ..... बहुत सुन्दर...

Patali-The-Village ने कहा…

बहुत ही सुंदर और गहरी बात कहती हुई भावुक अभिव्यक्ती| आभार|

Minakshi Pant ने कहा…

होंसला अफजाई का बहुत - बहुत शुक्रिया दोस्त !

Kunwar Kusumesh ने कहा…

बहुत खूबसूरत भावाभिव्यक्ति.

जयकृष्ण राय तुषार ने कहा…

खूबसूरत कविता |बधाई |

$$~place of Love~$$ ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.