संसार

ये अपने विचारों का द्वन्द है , 
जीने दो उसको जो स्वछन्द है |
निराधार है सारी बातें ,
जिसमें  कोई सार  नहीं |
नाम के हैं सारे रिश्ते ,
जिसमें प्यार नहीं , सत्कार नहीं |
क्या बतलाएं उन जख्मों को ,
जिनके भरने की तो बात  नहीं |
हाहाकार है सारी दुनियां में ,
यहाँ जीने के आसार नहीं |
इस रंग बदलती दुनिया में ,
कौन  एसा है जो बेकार नहीं |
हाय - हाय का शोर है हरतरफ ,
कोई कोना भी आबाद नहीं |
बात कहने से बात बिगडती है ,
बातों में अब शिष्टाचार नहीं ,
कसम  खा लेने  भर से ...
मिट सकता भ्रष्टाचार नहीं |
हर तरफ नफरत की आग लगी है ,
जिसका कोई पारावार नहीं |



13 टिप्‍पणियां:

संजय कुमार चौरसिया ने कहा…

इस रंग बदलती दुनिया में , कौन एसा है जो बेकार नहीं
sundar panktiyan,
bahut bahut aabhar

Manpreet Kaur ने कहा…

wah wah wah bouth he aache shabad hai aapke aacha lagaa read kar ke..
Visit my blog....
Download Music
Lyrics Mantra

Swarajya karun ने कहा…

@बातों में अब शिष्टाचार नहीं , कसम खा लेने भर से ... मिट सकता भ्रष्टाचार नहीं |- बहुत सही कहा आपने.

मनोज कुमार ने कहा…

विचारोत्तेजक कविता।

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

दर्शन से परिपूर्ण गहन अनुभूतियों की सुन्दर अभिव्यक्ति ...बधाई.

Udan Tashtari ने कहा…

बढ़िया अभिव्यक्ति!!

M VERMA ने कहा…

बहुत सुन्दर
हाहाकार है सारी दुनियां में ,
यहाँ जीने के आसार नहीं |

Rahul Singh ने कहा…

दुनिया रंग रंगीली पर ऐसा बदरंग-सा मंजर.

Khare A ने कहा…

bahut hi achhi kavita kahi aapne,
dil ko chhu gayi!

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

ये अपने विचारों का द्वन्द है ,
जीने दो उसको जो स्वछन्द है |

कौन किसे है बाँध सका?

ZEAL ने कहा…

सुन्दर अभिव्यक्ति
बधाई.

देवेन्द्र ने कहा…

मीनाक्षी जी , बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति । फिर मैं यही कहना चाहूँगा कि हमें आशा की डोर तो थाँम कर रखनी ही पडेगी । मैंने Saturday, February 12, 2011, ……कुछ कदम चल कर तो देखे , में भी कुछ इसी तरह का विचार व्यक्त किया था। यदि समय अनुमति दे अवश्य इस पर एक नजर डालने का प्रयाश करियेगा।

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

iss rang badalti duniya me ......kya kahun!! koi bekar nahi, koi bejar nahi..:)
ek bahut pyari se rachna...jisko sayad ek naari ne apne charo aur ke paripeksheye me apni soch aur gusse ko darshaya hai..!!

waise to lagta nhi, kuchh hoga...par ye ummid hai jo manti nahi...har din marte hain, fir bhi dil kahta hai sayad kal ki subah pyari hogi...:!