दिल है कि मानता नहीं


दिल का क्या है ...
न जाने किसके पहलूँ में जाके ठहर जाये |
किसी पहचान की उसे ...
जरूरत ही कहाँ होती है |
बस निकल जाता है किसी भी पल 
खुद को कुर्बान करने ,
फिर लाख बुला लो , कहाँ मानता है |
बहुत जिद्दी है ये हमारी तरह 
अपने पहलूँ में तो , पल भर ठहरता  ही नहीं  |
बस जहां ख़ुशी मिली की बस 
उसकी  तरफ  ही लपक लिए  |
यूँ कहो की उससे ही जुड़ने को बेताब |
पर ये बैरी  जमाना ...
कहाँ ठहरने देता है उसे वहाँ ...
वो तो बस आँखे बिछाये 
इसी इंतजार में खड़ा रहता है कि ...
कब वो अपने सफ़र पर निकले 
और वो अपने काम को अंजाम दें |
बहुत पहरे हैं उसपर ...
पर वो भी किन्ही बेड़ियों से कब डरता है |
सारे बन्धनों को पल - भर में तोड़ 
अपने सफ़र को निकल चलता है |
फिर अंजाम कि किसे परवाह ?
अजी ... दिल $$$ है कि मानता नहीं |

20 टिप्‍पणियां:

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " ने कहा…

'दिल है कि मानता नहीं '
..................मनमोहक अभिव्यक्ति

Udan Tashtari ने कहा…

सुन्दर रचना...

Rakesh Kumar ने कहा…

मीनाक्षी जी दिल बहुत अनमोल है.मीरा ने तो बहुत सोच समझ के दिया इसे कान्हा को और खरीद लिया दिल ही से
'मैंने तो लिए रे गोविन्दो मोल
कोई कहे कालो,कोई कहे गोरो
लिया रे तराजू तोल
मैंने तो लिए रे गोविन्दो मोल'

prerna argal ने कहा…

DIL KE KARAN HI TO BADI PARESHAANI HAI KAB KAHAN KIS CHEEJ PER AA JAAYE.PHIR WO NAA MILE TO KITANAA BECHAIN HO JAAYE ISKO SAMBHALANAA MUSHKIL HO JAATAA HAI.KYONKI DIL HAI KI MAANTAA NAHI.BAHUT ACHCHI RACHANAA.BADHAAI AAPKO.


PLEASE VISIT MY BLOG AND LEAVE THE COMMENTS ALSO

दर्शन कौर धनोए ने कहा…

दिल की खूबी दिल ही जाने

वीना ने कहा…

ये तो दिल की बात है...

विजय रंजन ने कहा…

Dil to baccha hota hai...bhala maane to maane kaise....khushi ki talash har shay me karta hai dil...jahan mile khushi ka thaur...chal dia usi oar...

Bahut accha hai Minakshi Ji..Uttam baat sahi dhang se aur sahi samay par prastut.

Rahul Singh ने कहा…

दिल तो दिल है.

सुशील बाकलीवाल ने कहा…

दिल तो बच्चा है जी ।

anju choudhary..(anu) ने कहा…

दिल तो दिल है जी ....वो कब किसी कि सुनता है

sushma 'आहुति' ने कहा…

dil to hai dil dil ka etbaar kya kijaye... bhu hi khubsurat rachna...

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

दिल का भरोसा नहीं है।

मनोज कुमार ने कहा…

बहुत अच्छी लगी यह कविता और इसके भाव।

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 17 - 05 - 2011
को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

http://charchamanch.blogspot.com/

M VERMA ने कहा…

दिल कब मानता है

कुश्वंश ने कहा…

दिल तो दिल है , कब किसी कि सुनता है

मनमोहक भावअभिव्यक्ति.

रचना दीक्षित ने कहा…

दिले नादाँ तुझे हुआ क्या है?
आखिर इस दर्द की दवा क्या है?

मनमोहक अभिव्यक्ति, सुन्दर रचना.

दिगम्बर नासवा ने कहा…

वाह .. लाजवाब लिखा है ... दिल तो बच्चा है ...इसलिए मानता नही ...

***Punam*** ने कहा…

"दिल का क्या है ...
न जाने किसके पहलूँ में जाके ठहर जाये |
किसी पहचान की उसे ...
जरूरत ही कहाँ होती है |"

तभी तो...

'दिल है कि मानता नहीं '

Pradeep Kumar ने कहा…

पर ये बैरी जमाना ...
कहाँ ठहरने देता है उसे वहाँ ...
वो तो बस आँखे बिछाये
इसी इंतजार में खड़ा रहता है कि ...
कब वो अपने सफ़र पर निकले
और वो अपने काम को अंजाम दें |
बहुत पहरे हैं उसपर ...
पर वो भी किन्ही बेड़ियों से कब डरता है |
सारे बन्धनों को पल - भर में तोड़
अपने सफ़र को निकल चलता है |
wah zamaane aur dil dono ki fitrat ka kya khoob chitran kiya hai ! badhaai