जीवन का अर्थ


एक दिन जिन्दगी 
हमसे रूबरू होके बोली |
कौन हो तुम और
किसके लिए हो ?
साँस लेते रहना सिर्फ ...
आदत ही तो नहीं है ?
किसके हो और 
किसके खातिर बने हो ?
अब हम जिन्दगी को 
इसका क्या जवाब देते ?
हमें तो लगा था हम 
जुड़वाँ हैं बहनें |
हमारा जन्म - मरण 
हमारी मर्जी तो नहीं है |
हम तो बस ...कुछ पल को
खुद को  है समेटे |
क्या देना है क्या है लेना 
उफ़ .... कितने सवाल थे ये ?
तब जाके फिर ...
जिन्दगी के पन्नों  से हम गुजरे |
बचपन के दृश्य में जाके 
कुछ पल को  ठहरे |
दस , बारह  बच्चों की थी वो टोली ,
हार- जीत के क्षण में आके थी ठहरी |
चीटिंग - चीटिंग के शोर से था 
सारे आलम में सन्नाटा |
यहाँ  अमीरी गरीबी से ... ये कह रही थी |
जीत भी केवल , अमीरों के  हक में हो जैसे |
उसी का इंसाफ करके , तब हम आगे बड़े थे |
दर्द था पुराना , पर कसक आज तक थी  |
जिंदगी का सही अर्थ तो जाना उसी पल था |
जिंदगी में सबको जीने का बराबर का हक है |
की जीवन का सही अर्थ तो छुपा इसी में था |

15 टिप्‍पणियां:

Kashvi Kaneri ने कहा…

थैक्यू दोस्त .. आप की कविता बहुत अच्छी है

Rakesh Kumar ने कहा…

सुन्दर गहन अर्थों का सम्प्रेषण करती है आपकी यह अनुपम प्रस्तुति.
बहुत बहुत आभार मीनाक्षी जी.

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

उसी का इंसाफ करके , तब हम आगे बड़े थे |
दर्द था पुराना , पर कसक आज तक थी |
जिंदगी का सही अर्थ तो जाना उसी पल था |
जिंदगी में सबको जीने का बराबर का हक है |
की जीवन का सही अर्थ तो छुपा इसी में था |

ज़िंदगी से रु-ब-रु हुयीं आप ... यही बहुत बड़ी बात है ...जीवन का मकसद पाना उससे बड़ी बात है ... बहुत अच्छी रचना

तरुण भारतीय ने कहा…

धन्यवाद बहुत सार्थक पोस्ट ......यूँ ही जीवन के पहलुओ पर लिखते रहें

संजय कुमार चौरसिया ने कहा…

मीनाक्षी जी,
बहुत सार्थक पोस्ट ,अनुपम प्रस्तुति

बहुत बहुत आभार

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सबको संसाधनों में समुचित अधिकार मिले। सुन्दर प्रस्तुति।

sushma 'आहुति' ने कहा…

bhut hi acchi rachna...

संजय भास्कर ने कहा…

बहुत ही सरल-सहज ढंग से ह्रदय के गहनतम भावों की अभिव्यक्ति....

वन्दना ने कहा…

ज़िन्दगी के अर्थ समझाती एक सुन्दर रचना।

neelima garg ने कहा…

साँस लेते रहना सिर्फ ... आदत ही तो नहीं है ? very meaningful..

वाणी गीत ने कहा…

जियो और जीने दो क्योंकि जीने का हक सबको बराबर का है ...
सार्थक रचना !

Patali-The-Village ने कहा…

बहुत सार्थक पोस्ट ,अनुपम प्रस्तुति|धन्यवाद|

अमित श्रीवास्तव ने कहा…

bahut khoob..

***Punam*** ने कहा…

कौन हो तुम और
किसके लिए हो ?
साँस लेते रहना सिर्फ ...
आदत ही तो नहीं है ?
गहनतम भावों की अभिव्यक्ति....!!

Rravindra Ravi ने कहा…

खूबसूरत रचना!!!