सत्य सिर्फ मृत्यु

सब जानते हैं ...
सबकी  मंजिल का पता 
सिर्फ एक ही तो है |
पर उसके नाम से ही ,
हम सब काँप जाते हैं |
जीवन का  कडवा सत्य ,
जिसे छु कर हम 
सबको गुजरना है |
 उसकी  याद करके  ही ...
बदन में सिरहन सी लाते हैं |
बहुत दहशत है इस नाम में ,
पर सत्य सिर्फ एक ही तो है  |
आये थे जहां से हम ,
उसी राह सबको जाना है |
मोह माया के  बंधन से 
छुटकारा कब कहाँ मिलता |
पर मोह का धागा हमें ...
 खुद से बांधे है रखता |
जब - जब इसको समझने को , 
हम आगे हैं बढ़ते |
मोह खींचकर  हमें ...
अपने पलूं से बांध है देता |
यही वजह हमें ...
इसके  डर का कारण बनाती है | 
हममे इसके प्रति  
और दहशत फैलाती  है |
वास्तव में अगर आस्तित्व है ,
तो सिर्फ मोक्ष ही में  है  |
जो इसके सबसे करीब है 
वो मृत्यु ही तो है |

18 टिप्‍पणियां:

रश्मि प्रभा... ने कहा…

आस्तित्व =
सिर्फ मोक्ष ही में है |... per moksh milta kahan hai

संजय कुमार चौरसिया ने कहा…

katu satya hai , jiska saamna koi nahin karna chahta , kintu..............

Rahul Singh ने कहा…

जीवन का सत्‍य.

वन्दना ने कहा…

यही शाश्वत सत्य है।

prerna argal ने कहा…

हममे इसके प्रति
और दहशत फैलाती है |
वास्तव में अगर आस्तित्व है ,
तो सिर्फ मोक्ष ही में है |
जो इसके सबसे करीब है
वो मृत्यु ही तो है |aapne jindagi ke baad ka sach se parichay kara diya.bahut hi saarthak rachanaa.yatharth ko batati hui.badhaai aapko.


please visit my blog and leave the comments also.thanks

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

सच कहा आपने.

सादर

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

सब जानते हैं फिर भी भयभीत रहते हैं ...सत्य को कहती अच्छी रचना

मदन शर्मा ने कहा…

बहुत सुंदर रचना ... पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ. मेरे ब्लॉग पर आयें.आपका हार्दिक स्वागत है
कृपया मेरे ब्लॉग पर आयें http://madanaryancom.blogspot.com/

मदन शर्मा ने कहा…

बहुत सुंदर रचना ... पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ. मेरे ब्लॉग पर आयें.आपका हार्दिक स्वागत है
कृपया मेरे ब्लॉग पर आयें http://madanaryancom.blogspot.com/

संजय भास्कर ने कहा…

शाश्वत सत्य
बहुत ही सुन्दर... कुछ अलग सी रचना.

anju choudhary..(anu) ने कहा…

is jeevan ka antim sach....jo kabhi nahi badla

संध्या शर्मा ने कहा…

शाश्वत सत्य को दर्शाती ........बहुत ही सुन्दर रचना...

कविता रावत ने कहा…

sach sabkuchh dhara rah jaata hai yahin, phir bhi bhage jaa raha hain insaan....

Jyoti Mishra ने कहा…

very nicely said !!!

मनोज कुमार ने कहा…

शास्वत सत्य का काव्यात्मक रूप अच्छा लगा।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सत्य वही है,
और सत्य है,
सारा जीवन।

अमित श्रीवास्तव ने कहा…

bat to bilkul sach hai,par bhay to lagta hi hai..

sanjeevan ने कहा…

bahut acha likha hai. par ye vastvikta aadmi ko bhut der me samajh aati hai. agr pehle hi ye samajh aa jae to sansarik bandhan me koi bhi aadmi fasna nhi chahega. isi lie ishwar ne kuch aisa jal bichaya hai ki ye baad me hi samajh aae aur jeevan chalta rhe.