उपहार

अपनी किरणों का देकर उपहार
देखो सूरज फिर आज कंगाल हुआ |

चाँद - तारों में भरकर अपना प्यार 
देखो वो आज फिर से मालामाल हुआ |

जिक्र छीडा जब भी जग में उसका 
शाम को आँगन सारा लाल हुआ |

सुबह छज्जे में आकार जो ढहरा था 
शाम को मिलना उसका मुहाल हुआ |

उम्र तो ठहर गई उस चोबारे में 
पर उसका  तो जीवन भर साथ हुआ |

तुम तो आते थे दिन , साल , महीने में 
पर उसका दीदार तो हर बार हुआ |

कल तक जिसको न समझ पाए थे 
आज सारे  सवालों का वही जवाब हुआ |

12 टिप्‍पणियां:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बेहतरीन, अहा।

वन्दना ने कहा…

vaah ...........bahut hi umda prastuti.

Amrita Tanmay ने कहा…

बहुत सुंदर प्रस्तुति..

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

kya kahoon, isa pyari se kavita ne sooraj ke roopon ko charon taraph bikher diya.

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

wah jee! mil gaya aapko saare sawalo ka jabab:D

bahut khub!! aapki lekhni ka jabab nahi!

mahendra srivastava ने कहा…

क्या कहने, बहुत बढिया

sushma 'आहुति' ने कहा…

bhaut hi sunder....

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

खूबसूरत रचना

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

जिक्र छिड़ा जब भी जग में उसका
शाम को आँगन सारा लाल हुआ |
सुबह छज्जे में आकार जो ढहरा था
शाम को मिलना उसका मुहाल हुआ |


बेहद शानदार लाजवाब गज़ल ....

Dr Varsha Singh ने कहा…

आपने बहुत सुन्दर शब्दों में अपनी बात कही है। शुभकामनायें।

संजय भास्कर ने कहा…

बहुत बहुत बहुत सुन्दर .....अभिव्यक्ति मीनाक्षी जी

Anil Avtaar ने कहा…

Aapko aksar blog ki galiyon mein vichararte huye dekha hai... aaj vichar huaa jo aapki gali vicharan karun.. Badi achhi rachna karti hain aap.. Badhai..