पवित्र रिश्ता

 
माँ है पेड
जो खुद को दबाकर 
हम सबको उपर उठाती है |
पिता है तना 
जो अपनी छाया देकर हमकों 
सुकूं दिलाते हैं |
हम सब हैं शाखाएं 
जो उन दोनों बिन अधूरे है |
उन दोनों के आशीर्वाद से 
ये भाई - बहन का  
रिश्ता भी बन पाया है |
ये प्यारी सी एक डोर है |
जिसमे भाई - बहन 
दोनों एक - एक  छोर हैं |
ये पावन  , निर्मल रिश्ता है |
जो एहसास , विश्वास में पलता है | 
जिसमे मान है , मुनहार है |
अपने सुख - दुःख को 
साँझा करने कि एक आस है |
एक दूजे के लिए सम्मान है |
माँ - बाबा के साथ से इस का 
आस्तिव बरकरार है |
क्युकी बचपन कि खुशबु को 
पाने कि जो आस है ,
वो सबके एहसासों का 
मिलाजुला संसार है |
जो भाई - बहन के प्यार ने 
आज भी बखूबी आगे बढाया है |
इसीलिए राखी का त्यौहार
सबसे  प्यारा कहलाया है |

11 टिप्‍पणियां:

संजय कुमार चौरसिया ने कहा…

रक्षाबंधन एवं स्वाधीनता दिवस के पावन पर्वों की हार्दिक मंगल कामनाएं.

वन्दना ने कहा…

रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं.

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं !

सादर

mahendra srivastava ने कहा…

बहुत बहुत मुबारकबाद

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

खूबसूरत भाव से भरी रचना ..शुभकामनाएँ

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

प्रेम का अनुपम चित्रण।

sushma 'आहुति' ने कहा…

रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं..!!

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

बहुत ही भावपूर्ण रचना, रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं.

रामराम.

Dr Varsha Singh ने कहा…

बहुत ही भावुक रचना.....
रक्षाबंधन एवं स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।

अनामिका की सदायें ...... ने कहा…

bahut sunder vyakhya ki rishton ki. sach kaha sab se sunder pavitr rishta yahi hai.

sanjeevan ने कहा…

Bahut acha. Likhte raho.