रचनाकार की रचना

Fabulous Nature Pictures
जब - जब बहार है आती |
गम के सारे बादल है ले जाती  |
जब चारों तरफ  सन्नाटा है छाता  |
हमसे वो  कुछ तो  है कह जाता  |
सबके हिस्से का है सूरज |
सबके हिस्से में आते है सुख - दुःख |
फिर क्यु नदिया सी रोती है ये आँखे ...
क्यु नहीं कह देती हंसके सारी बातें  |
बादल बनके बरसकर
फिर क्यु अपना आस्तिव है रचती |
क्यु छाता है ये अँधेरा
किससे मिलने जाता है छुप - छुपकर |
और उगते सूरज की रौशनी में
क्यु शर्माता है वो रह - रहकर |
नदिया की कलकल धारा सा
क्यु बहता है सबका मन |
राह में मिलते फूल - काँटों को
क्यु समेटता है हर पल |
धुल - मिटटी का श्रृंगार करके
क्यु मचलती है ये पवन हरदम |
कभी मंद गति से बढती
तो कभी क्यु ढहा देती है सबकुछ |
हाँ कोई तो  है इसका रचेता
वही करवाता है हमसे ये सबकुछ |


8 टिप्‍पणियां:

संजय कुमार चौरसिया ने कहा…

bahut badiya rachna hai
rachnaakar ki

रश्मि प्रभा... ने कहा…

कोई तो है इसका रचेता
वही करवाता है हमसे ये सबकुछ |
sach hai

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

हाँ कोई तो है इसका रचेता
वही करवाता है हमसे ये सबकुछ |

बिलकुल सही बात काही है आपने।

सादर

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बहुत ही बढ़िया रचना।

संतोष त्रिवेदी ने कहा…

कोई तो है जो यह सब करवाता है हमसे.....ठीक है,फिर भी हम यह तो जानते ही हैं क्या गलत है क्या सही !

वाणी गीत ने कहा…

हर तरफ हर ज़गह हर कही पर है हाँ उसी का नूर ...
रौशनी का कोई दरिया तो है कही पर ज़रूर !

दिलबाग विर्क ने कहा…

आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
कृपया पधारें
चर्चा मंच-687:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

चन्दन..... ने कहा…

बहुत बेहतरीन